Popular Posts

Wednesday, 16 November 2011

विचलित मन


लास्ट वीक मुदित को बोहत तेज बुखार हो गया था,उसी को सोच के ये विचार अपने आप मन में आये और कविता बन गई , आप सभी से शेयर कर रही हु, वैसे अब उसकी तबियत ठीक है 



सो ना पाई सारी रात मै,
तेरी तकलीफ देखकर ,
बह आये आखो से आंसू मेरे ,
तेरी तकलीफ देखकर 

सीने से लगा के तुम को ,
इश्वर का ही नाम लिया,
और देखकर , इक माँ की तकलीफ ,
इश्वर ने अपना काम किया .

पूछती थी इश्वर से ,
क्यूँ परेशान किया है मेरे मुदित को ,
अभी तो है इतना छोटा ,
के बयान भी ना कर पता है अपनी तकलीफ अपनी माँ को .

शुक्र है इश्वर का की ,
अब बिलकुल ठीक है मेरा लाडला ,
दिखाता है अपने करतब अब ,
फिर से रिझाता है सबको मेरा लाडला 

25 comments:

  1. बहुत सार्थक प्रस्तुति, आभार.

    ReplyDelete
  2. भावपूर्ण कविता, हाँ... माँ मन बहुत डर जाता है बच्चे की तकलीफ देखकर ...... मुदित को स्नेहाशीष

    ReplyDelete
  3. गीता जी,...
    बच्चे की तकलीफ देखकर हर माँ दुखी हो जाती है,/..
    भाव पूर्ण सुंदर पोस्ट,..
    मेरी पोस्ट-'माँ की यादें' और 'वजूद'पर स्वागत है

    ReplyDelete
  4. sandeep nd dheerendra ji thanks aapke comments ke liye

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया कविता लिखी है...... गीता जी..... अच्छी है...... उम्मीद है अब मुदित स्वस्थ है.....

    ReplyDelete
  6. thanks manoj, ha ab Mudit teek hai

    ReplyDelete
  7. भगवान के आशीष से वह जीवन की सारी खुशियां पाए!

    ReplyDelete
  8. अपने जिगर के टुकड़े की तकलीफ बर्दाश्त करना...
    सचमुच बहुत दुष्कर काम है....
    मुदित को शुभाशीष... और आपको सार्थक लेखन के लिये सादर शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  9. ठीक है कि अब सब ठीक है।
    और मौसम भी सर्दी का आने लगा है, जरा बचके रहना।

    ReplyDelete
  10. गीता जी,...
    मेरे पोस्ट 'शब्द'में आपका इंतजार है,...

    ReplyDelete
  11. मां,बच्चा और भगवान समानार्थी शब्द ही हैं।

    ReplyDelete
  12. बच्चे जब बीमार होते हैं तो माँ-बाप स्वाभाविक है परेसान होंगे ही...वैसे चलिए अच्छी खबर सुनने को मिली...की अब मुदित की तबियत ठीक है...:)

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी रचना ...
    मेरे पोस्ट में आने के लिए आभार
    आपका समर्थक बन गया हूँ,....

    ...फुहार....: कितने हसीन है आप.....

    ReplyDelete
  14. आपकी रचना बहुत अच्छी लगी,लाजबाब सुंदर पंक्तियाँ,..

    MY NEW POST...मेरे छोटे से आँगन में...

    ReplyDelete
  15. बेहतरीन सुंदर रचना, बहुत अच्छी प्रस्तुति,

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    ReplyDelete
  16. सुन्दर प्रस्तुति

    ( अरुन शर्मा = arunsblog.in )

    ReplyDelete
  17. जियो हजारों साल
    साल के दिन हों पचास हजार

    ReplyDelete
  18. सुन्दर रचना। बधाई

    ReplyDelete
  19. सुन्दर रचना। बधाई

    ReplyDelete